अमृत कलश

Friday, September 30, 2016

दयालू चोर




चोरों का एक समूह चोरी के उद्देश्य से एक गाँव में आया |
यहाँ वहां घूम घूम कर अंदाज लगाया की कहाँ चोरी  करना उचित होगा |जब रात हो गई
अन्धकार धना होने लगा वे बिना आहट किये एक मकान के पीछे पहुंचे |वहां इतनी शान्ति थी
कि लग रहा था पूरा मकान खाली होगा|कुदाल की सहायता से दीवार में मोखला बनाया और
अन्दर कदम रखे परन्तु हलकी आहट से सोये हुए घरवाले जाग गए |अतः जिस रास्ते से आये थे
 भाग निकले |हाथ कुछ भी न लगा |
                            खबर गलत निकली निराशा हाथ लगी पर सोचा एक कोशिश
तो की ही जा सकती है|गाँव के दूसरे छोर पर एक कच्चे मकान में छेद किया और अन्दर कदम रखे |
देखा एक व्यक्ति फटे कपड़ों में लिपटा जमीन पर सो रहा था |आसपास कुछ  टूटे टाटे बर्तन थे |
वह आदमी न हिला ना डुलाना ही कोई प्रतिक्रया की |चोर ने दरवाजा खोला और बाहर जाने लगा |पीछे से आवाज आई अरे भाई आए होतो  कुछ दे कर जाओ जिससे कल रोटी की जुगाड़ हो सके |
पहले तो चोर चौंका फिर उसकी गरीबी देख मन में दया उपजी |जेब से एक रुपया  निकाला और फैक कर चल दिया  |सोच रहा था दिन ही खराब था कमाया तो कुछ नहीं और जेब भी खाली हो गई |
आशा
















पितृ दिवस पर :-

6 comments:

  1. धन्यवाद संगीता जी टिप्पणी के लिए |

    ReplyDelete
  2. Bahut sundar. Thank you madam. sadar naman

    ReplyDelete
  3. Hello Asha Ji,
    We listed your Blog Here Best Hindi Blogs after analysis your blog.
    - Team
    www.iBlogger.in

    ReplyDelete
  4. Nice Articale Sir I like ur website and daily visit every day i get here something new & more and special on your site.
    one request this is my blog i following you can u give me some tips regarding seo, Degine,pagespeed
    www.hihindi.com

    ReplyDelete
  5. नाम वही, काम वही लेकिन हमारा पता बदल गया है। आदरणीय ब्लॉगर आपका ब्लॉग हमारी ब्लॉग डायरेक्ट्री में सूचीबद्व है। यदि आपने अपने ब्लॉग पर iBlogger का सूची प्रदर्शक लगाया हुआ है कृपया उसे यहां दिए गये लिंक पर जाकर नया कोड लगा लें ताकि आप हमारे साथ जुड़ें रहे।
    इस लिंक पर जाएं :::::
    http://www.iblogger.prachidigital.in/p/best-hindi-litreture-blogs.html

    ReplyDelete